क्रेडिट कार्ड क्या होता है हिंदी में बताये | Credit card Meaning in Hindi

 क्रेडिट कार्ड क्या होता है? Credit card Meaning in Hindi, क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई कैसे करते हैं?, क्रेडिट कार्ड किन लोगो को दिया जाता है?, क्रेडिट कार्ड का उपयोग कैसे करें?, क्रेडिट कार्ड के फायदे और नुकसान क्या है? जैसे कई सवालों के जवाब इस आर्टिकल में देने वाला हूँ। अगर आप भी क्रेडिट कार्ड के बारे में जानकारी चाहते हैं तो यह पोस्ट Credit card Meaning in Hindi आपके लिए बिलकुल सही है।

क्रेडिट कार्ड का मतलब क्या होता है – Credit card Meaning in Hindi?

क्रेडिट कार्ड का मतलब क्या होता है - Credit card Meaning in Hindi?
Credit card Meaning in Hindi

सबसे पहले हम बात करते हैं क्रेडिट कार्ड का मतलब क्या होता है? जैसे कि एटीएम कार्ड या डेबिट कार्ड होता है, ठीक उसी प्रकार से क्रेडिट कार्ड भी एक कार्ड होता है। लेकिन इन दोनों अंतर यह होता है कि डेबिट कार्ड हमारे बैंक अकाउंट से लिंक होता है। जबकि क्रेडिट कार्ड किसी बैंक से लिंक नही होता है।

इसीलिए हम डेबिट कार्ड से सिर्फ उतने ही पैसे खर्च कर सकते हैं, जितने की हमारे बैंक अकाउंट में जमा होते हैं। क्योंकि यह हमारे अकाउंट से लिंक होता है। परन्तु क्रेडिट कार्ड जब हमें बैंक जारी करता है तो हमें इसमें एक लिमिट देता है, जो कि 25000 रुपये से लेकर 3 लाख रुपये तक कुछ भी हो सकती है। और इसे हम एक महीने में खर्च कर सकते हैं। तथा इसका भुगतान अगले महीने में कर सकते हैं।

अतः क्रेडिट कार्ड एक लोन की तरह होता है, जब हमारे पास पैसे न हो तो हम अपने दोस्तों या रिस्तेदार से पैसे उधार ले लेते हैं और कुछ समय बाद वापस लौटा देते हैं। ठीक इसी लॉजिक का उपयोग करके क्रेडिट कार्ड  फैसिलिटी को बैंको द्वारा लाया गया। क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल करके हम कोई भी शापिंग कर सकते हैं वो भी जब हमारे पास पैसे न हो। जिसका पेमेंट हमे अगले महीने में करना पड़ता है।

क्रेडिट कार्ड किन लोगो को दिया जाता है – Credit Card kin logon ko diya jata hai?

अगर आपके पास एक अच्छा इनकम सोर्स है, यानी कि अच्छी सैलरी वाली जॉब है, या फिर आपका अच्छा बिजनेस चल रहा है। और आपका सिविल स्कोर अच्छा है। तो आपको आसानी से क्रेडिट कार्ड मिल जाता है। इसका मतलब यह है कि आपको क्रेडिट कार्ड तभी मिलता है जब आप उसका पैसा चुकाने में सक्षम होते हैं।

क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई कैसे करें – Credit Card ke liye apply kaise karte hai?

बात करे क्रेडिट कार्ड कैसे मिलता है तो इसके लिए दो तरीके हैं। आप क्रेडिट कार्ड आफलॉइन भी अप्लाई कर सकते हैं और ऑनलाइन भी अप्लाई कर सकते हैं। अगर आप नेट बैंकिंग का इस्तेमाल करते हैं, तो उस बैंक की नेट बैंकिंग ऑप्शन में लॉगइन करके क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई कर सकते हैं।

लेकिन आप नेट बैंकिंग का इसतेमाल नही करते हैं तो आपको अपने बैंक में जाकर क्रेडिट कार्ड के लिए आफलाइन फॉर्म भर के भी अप्लाई कर सकते हैं। जैसे ही आप क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई करते हैं तो आपके पर्मानेंट एड्रेस पर एक महीने में क्रेडिट कार्ड भेज दिया जाता है। और इसके बाद आप इसका इस्तेमाल कर सकते हैं।

क्रेडिट कार्ड का उपयोग कैसे करें – Credit card ka use kaise kare?

जब क्रेडिट कार्ड बैंक जारी करता हैं तो उसमें पहले से ही बैंक द्वारा एक लिमिट सेट कर दी जाती है जो टाइम-टू-टाइम बढ़ती रहती है। यह लिमिट 25,000 से 3 लाख तक होती है। इसमें क्या होता है कि जितनी लिमिट क्रेडिट कार्ड में सेट कर देता है उतनी अमाउंट आप एक महीने में खर्च कर सकते हैं।

इसका उपयोग आप ऑनलाइन शॉपिंग करनें में या किसी को पेंमेंट करने में या फिर ATM मशीन से कैश निकालने में कर सकते हैं। लेकिन ATM से कैश निकालने पर आपको इसके लिए पैनालिटी भी चुकाना पड़ता है। इसलिए कभी भी क्रेडिट कार्ड से कैश नही निकालना चाहिए। आप इसका उपयोग केवल ऑनलाइन कामो के लिए ही करें।

आप जिस-जिस जगह पर डेबिट कार्ड का इस्तेमाल करते हैं, उस जगह पर क्रेडिट कार्ड का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

क्रेडिट कार्ड के फायदे और नुकसान क्या है?

चलिए अब जान लेते हैं कि क्रेडिट कार्ड के क्या-क्या फायदे होते हैं और क्रेडिट कार्ड लेने से क्या-क्या नुकसान हो सकता है। चलिए पहले जानते हैं क्रेडिट कार्ड के फायदे के बारे में –

क्रेडिट कार्ड के क्या फायदे होते हैं?

अगर आप क्रेडिट कार्ड लेते हैं तो इसके कई सारे फायदे आपको मिल सकते है। जैसे –

  1. सबसे बड़ा फायदा यह होता है कि इमर्जेंसी में हमें पैसों की जरूरत पड़ती है तो हम अपने फ्रेंड्स या रिस्तेदारों से न मांग सके या वो लोग न दे पाए  तो उस परिस्थिति में हम क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल कर सकते है। और बाद वह सारी अमाउंट एक महीने के बाद पे कर सकते हैं।
  2. जब आप इससे कोई ऑनलाइन शॉपिंग करते हैं या पेमेंट करते हैं तो इसमें आपको कुछ रिवार्ड क्वाइन मिलते हैं। जिसे आप रिडीम कर सकते हैं।
  3. क्रेडिट कार्ट से Online Shopping या Payment करने पर काफी छूट भी मिलती है। जैसे फ्लिपकार्ट या अमेजन में 1000 से उपर की शॉपिंग करने पर आपको 10% या इससे ज्यादा का तुरंत डिस्काउंट मिल जाता है।

क्रेडिट कार्ड के नुकसान क्या है?

क्रेडिट कार्ड के कई सारे फायदे तो हैं लेकिन उसी प्रकार इसके कुछ नुकसान भी है जैसे कि –

  1. सबसे बड़ा नुकसान तो यह है कि अगर आप इसका Bill Pay करने में चूक जाते हैं, तो हमें इसका पैनालिटी भी भरना होता है। यानी की आपके Bill Pay की Date 2 तारीख है और आप Bill Pay नही कर पाते हैं तो आपको अच्छी खासी पैनालिटी भरनी पड़ती है।
  2. अगर आप क्रेडिट कार्ड से ATM से पैसे निकालते हैं तो पैसे निकालने के दिन से ही आपके उपर पैनालिटी लगनी शुरु हो जाती है। जब तक कि आप उस कैश को पे नही कर देते हैं।
  3. यदि आपका क्रेडिट कार्ड गुम जाता है, तो कोई भी व्यक्ति इससे इंटरनेशनल ट्रांजेक्शन कर सकता है। क्योंकि इंटरनेशनल ट्रांजेक्शन करने पर क्रेडिट कार्ड पर कोई भी OTP नही मागता है। बस उस क्रेडिट कार्ड का नंबर और पीछे दिया CVV नंबर डालकर कोई भी डायरेक्ट पेंमेंट कर सकता है। क्योंकि OTP सिर्फ नेशनल ट्रांजेक्शन करने पर ही आता है। इसलिए इसके खोने के तुरंत बाद ही इसे बंद करा देना चाहिए।
  4. क्रेडिट कार्ड फिजूल के खर्चे को बढ़ावा देता है। क्योंकि अगर हमारा मन किसी चीज को नही खरीदने का है तो क्रेडिट कार्ड होने से हम उसे भी खरीद लेते हैं। क्योंकि हमें लगता हैं कि पेमेंट तो अगले महीने देना है। और ऐसे ही कई सारे फिजूल के खर्चे होते रहते हैं।

क्रेडिट कार्ड का बिल कैसे आता है और उसे कैसे चुकाते हैं?

जब हम क्रेडिट कार्ड से कोई शॉपिंग या पेमेंट करते हैं तो उसके कुछ दिन बाद बिल जनरेट होता है। और बिल जनरेट हो जाने के बाद भी 20 दिन का टाइम मिलता है। और कभी-कभी यह एक महीने का भी होता है। अतः जब हम क्रेडिट कार्ड से पैसे खर्च करते हैं तो लगभग 50 दिन में हमें बिल पे करने ही होते है नही तो पैनालिटी लगना शुरु हो जाता है।

आपके द्वारा खर्च किए गए पैसे की जानकारी आपको नेटबैंकिंग पर भी दिखाई पड़ती और इसके साथ ही आपके पर्मानेंट एड्रेश पर भी भेज दिया जाता है। जिसमें सारी जानकारी दी रहती है जैसे आपने कितने पैसे खर्च किए हैं और कहाँ-कहाँ पर किए हैं। तथा बिल पे करने की डेट भी लिखी होती है।

इसके साथ ही अगर आप पर कोई पैनालिटी लगी है तो उसकी जानकारी भी दी रहती है। यहाँ पर आपको बिल पे करने के लिए दो ऑप्शन मिलते हैं या तो मिनिमम अमाउंट जो होती है वह पेंमेंट कर सकते हैं। या फिर फुल अमाउंट पे कर सकते हैं। लेकिन ध्यान देने वाली बात यह है कि मिनिमम अमाउंट पे करने पर बची हुई अमाउंट पर अच्छी-खासा इंट्रेस्ट (ब्याज) देना पड़ता है। यह ब्याज शालाना 30% से 40%  तक होता है।

इसलिए जब भी बिल का भुगतान करें पूरा ही करें।

क्रेडिट कार्ड के बिल का भुगतान कैसे करें?

क्रेडिट कार्ड के बिल का भुगतान आप डायरेक्टली नेटबैंकिंग से भी कर सकते हैं। या फिर Phone pe app, PayTM आदि से कर सकते हैं। या फिर आप सीधे अपने बैंक में जाकर क्रेडिट कार्ड का बिल पे कर सकते हैं।

निष्कर्ष

जहाँ क्रेडिट कार्ड के बहुत सारे फायदे है तो वही इसके कई सारे नुकसान भी हैं। अगर आप क्रेडिट कार्ड का इस्तेमाल स्मार्टली करते हैं और सही समय पर बिल का पेमेंट करते हैं तो क्रेडिट कार्ड के कई सारे फायदे मिलते हैं, जैसे ऑनलाइन शॉपिंग में छूट मिलती है, पेमेंट में छूट मिल जाती है, और साथ ही कुछ रिवार्ड भी मिल जाते हैं। जिसे आप बाद में रिडीम भी कर सकते हैं। क्रेडिट कार्ड इमर्जेन्सी में बहुत काम आता है।

परन्तु यदि इसका इस्तेमाल सही से नही किया गया और टाइम पर भुगतान नही किया गया तो आपको भारी नुकसान भी झेलना पड़ सकता है। तो दोस्तों ये थी जानकारी Credit Card Meaning in Hindi आशा करता हूँ क्रेडिट कार्ड के बारे में यह जानकारी आपको पसंद आई होगी।

आपको यह भी जानना चाहिए

Leave a Comment