सुपर कंप्यूटर क्या है | सुपर कंप्यूटर का उपयोग कहाँ कहाँ किया जाता है?

सुपर कंप्यूटर क्या है? (Super computer kya hai?) सुपर कंप्यूटर का उपयोग कहाँ कहाँ किया जाता है? सुपर कंप्यूटर कब बनाया गया? सुपर कंप्यूटर की विशेषताएँ (Feature of Super Computer in hindi)

सुपर कंप्यूटर क्या है? (Super computer kya hai?)

सुपर कंप्यूटर दुनिया के सबसे तेज कंप्यूटर होते हैं जो Data को बहुत तेजी से प्रोसेस कर सकता है। एक कंप्यूटर एक सामान्य कंप्यूटर की तुलना में हजारों गुना ज्यादा फास्ट काम करता है। इसीलिए इसे Supercomputer कहा जाता है।

 

सुपर कंप्यूटर क्या है | सुपर कंप्यूटर का उपयोग कहाँ कहाँ किया जाता है?
सुपर कंप्यूटर क्या है | सुपर कंप्यूटर का उपयोग कहाँ कहाँ किया जाता है?

 

सुपर कंप्यूटर, कंप्यूटर की सभी श्रेणियों  में सबसे बड़े, सबसे अधिक स्टोरेज-क्षमता वाले तथा सबसे अधिक स्पीड वाले होते हैं। सुपर कंप्यूटर में अनेक CPU (Central Processing Unit) समान्तर क्रम में कार्य करते हैं। इसे Parallel Processing कहा जाता है। सुपर कंप्यूटर में हजारों प्रोसेसर लगे होते हैं, जो प्रति सेकंड अरबों-खरबों की गणना कर सकते हैं। वहीं इन कंप्यूटर का आकार काफी बड़ा होता हैं। सबसे शक्तिशाली सुपर कंप्यूटर कुछ फिट से लेकर सैकड़ों फिट तक हो सकते है।

सुपर कंप्यूटर कब बनाया गया?

सुपर कंप्यूटर 1960 में मैनचेस्टर विश्वविद्यालय में एटलस के साथ सेमुर क्रे द्वारा विकसित किया था। क्रे ने सीडीसी 1604 को डिजाइन किया था जो दुनिया का पहला सुपर कंप्यूटर था। इसके अलावा CRAY-2, CRAY XMP-24 और NEC-500 सुपर कंप्यूटर के अन्य उदाहरण हैं।

भारत का सुपर कंप्यूटर का नाम क्या है? भारत में C-DAC द्वारा “PARAM” नामक सुपर कंप्यूटर विकसित किया गया है। इसका Update version “PARAM-10000” भी तैयार कर लिया गया है।

सुपर कंप्यूटर की विशेषताएँ (Feature of Super Computer in hindi)

  • एक Super Computer एक बार में 100 से भी ज्यादा यूजर्स को सपोर्ट कर सकता है।
  • ये कंप्यूटर जटिल गणनाओं को हल करने में सक्षम है।
  • ये सबसे महंगे कंप्यूटर हैं जिन्हे खास कामों के लिए बनाया जाता है।       
  • सुपर कंप्यूटर में कई सीपीयू पैररल क्रम में लगे होते है जिसके कारण जटिल से जटिल गणनाओं को भी आसानी से और बेहद फास्ट किया जा सकता है।

सुपर कंप्यूटर का उपयोग कहाँ कहाँ किया जाता है?

  • बड़ी वैज्ञानिक और शोध प्रयोग शालाओं में शोध और खोज करने के लिए सुपर कंप्यूटर का उपयोग किया जाता है।
  • अन्तरिक्ष-यात्रा के लिये अन्तरिक्ष-यात्रियों को अन्तरिक्ष में भेजने के लिए।
  • मौसम का पूर्वानुमान लगाने के लिए सुपर कंप्यूटर का इस्तेमाल किया है।
  • उच्च गुणवत्ता के Animation वाले चलचित्र (movie) को तैयार करने के लिए।
  • वैज्ञानिक परमाणु हथियार विस्फोट के प्रभाव का परीक्षण करने के लिए।
  • मनोरंजन में, सुपर कंप्यूटर का उपयोग ऑनलाइन गेमिंग के लिए किया जाता है।
  • इसका उपयोग नई बीमारियों का पता लगाने के लिए और बीमारी के व्यवहार और उपचार की भविष्यवाणी करने के लिए भी किया जाता है।

सुपर कंप्यूटर की कीमत कितनी होती है?

इसकी कीमत इस बात पर निर्भर करता है कि यह कितनी Floating point per second (FLOPS) की स्पीड से गणना करता है। अतः जो सुपर कंप्यूटर जितना ज्यादा फास्ट होगा उसकी कीमत भी उतनी ही ज्यादा होगी।

एक सुपर कंप्यूटर की कीमत 2 लाख डॉलर से 100 मिलियन डॉलर से भी अधिक हो सकती हैं। यानी की भारतीय मुद्रा में लगभग 14,600000 से 73,00000000 से भी ज्यादा हो सकती है।

यह भी पढ़े……👇

👉 कंप्यूटर क्या है कंप्यूटर के वर्गीकरण को समझाइए?

👉 फ्लाइट मोड में इंटरनेट कैसे चलाएं?

👉 Computer या Laptop में इंटरनेट डाटा कैसे बचाएं ?

👉 Computer shortcut-keys

FAQ for Supper Computer

Q: दुनिया के सबसे 5 बेहतरीन सुपर कंप्यूटर कौन कौन से हैं

Ans:
Sunway TaihuLight (China)
Tianhe-2 (China)
Piz Daint (Switzerland)
Gyoukou (Japan)
Titan (United States)

Q: भारत के सुपर कंप्यूटर के नाम कौन-कौन से हैं

Ans:
Sahasra T (cray xc40)
Aaditya (Ibm/Lenovo system)
TIFR colour bason
IIT Delhi HPC
Param Yuva 2

Q: भारत का पहला सुपर कंप्यूटर कब बना

Ans: सन 1991 में भारत ने अपना पहला सुपर कंप्यूटर बना लिया और वैज्ञानिकों ने इस सुपर कंप्यूटर का नाम ‘परम’ (PARAM) रखा। सुपर कंप्यूटर बनाकर भारत ने अमेरिका समेत दुनियाभर के देशों को चौंका दिया था।

Leave a Comment

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.